Email और Gmail में क्या अंतर (Difference) है ?  पूरी जानकारी

Email और Gmail में क्या अंतर (Difference) है ? पूरी जानकारी

हेलो! फ्रेंड्स स्वागत है आपका Hindi Help Zone ब्लॉग में और आज हम जानेंगे Email क्या है ? और Gmail क्या है ? और साथ ही साथ जानेंगे Email और Gmail में क्या अंतर है ? , Difference Between Email And Gmail आजकल के इंटरनेट के युग में Email और Gmail को ज्यादातर लोग जानते हैं लेकिन इन दोनों के नाम से और इन दोनो के बीछ के Difference से अभी भी कुछ लोग अनजान है की Email और Gmail क्या होता है ? और Email और Gmail में अंतर (Difference) क्या होता है ? तो आज के इस लेख में हम इन्हीं के बारे में जानेंगे। हम सभी को पता है की पहले के जमाने में जब कोई खत लिखने के बाद जब वह खत हम किसी के पत्ते पर भेजने के लिए क्या करते थे हमें पोस्ट ऑफिस की सहायता लेनी पड़ती थी. पोस्ट ऑफिस का पोस्टमैन हमारे उस खत को ले जाने और लाने का काम किया करते है लेकिन पोस्ट ऑफिस कि इस प्रक्रिया में उस खत के लिए हमें लंबे समय तक इंतजार करना पड़ता हे और आज के समय में नई टेक्नोलॉजी के चलते ई-मेल के जरिए किसी को भी कुछ ही सेकंडो में उस खत को भेज सकते हैं । तो चलिए तेखते है Email And Gmail में क्या अंतर हैं ?

Email और Gmail में अंतर (Difference) क्या है ? - पूरी जानकारी
Email और Gmail में अंतर


◾ Email And Gmail Difference In हिन्दी


आज का युग technology का युग है और आज उस Technology के चलते हम E-mail का यूज कर पा रहे हैं। लेकिन आज के समय में भी कई सारे ऐसे लोग हैं जिन्हें Email और Gmail को लेकर बहुत कन्फ्यूजन रहता है इन्हें ईमेल (Email) और जीमेल (Gmail ) में अंतर (Difference) क्या है ? यह नहीं पता है. फ्रेंड्स अगर देखा जाए तो आज के टाइम में सभी लोगों के पास एक स्मार्टफोन जरूर रहता है और उस स्मार्टफोन में कुछ ऐसे फिशर होते हैं जीन का यूज करने के लिए एक जीमेल की आवश्यकता भी रहती है तो सभी लोग G-mail का use करते ही होंगे लेकिन कई लोगों को इन दोनों को लेकर कन्फ्यूजन रहता है जैसे आप इस लेख को पढ़ रहे हैं मतलब आपको इन दोनों के बीच के अंतर (Difference) को लेकर कोई कंफ्यूजन है। तो फ्रेंड्स आज मैं आपको Email और Gmail की पूरी जानकारी बताऊंगा जिससे आपको Email and Gmail को लेकर जो कंफ्यूजन है वह हट जाएगा

Email and Gmail के बीच Difference क्या है ? को जानने के लिए पहले ई-मेल क्या है ? और जीमेल क्या है ? को समझना पड़ेगा और जब आप Gmail और Email के बारे में समझ जाएंगे तो आप Email और Gmail में अंतर क्या होता है ? वह भी जान जाएंगे. "तो चलिए इस पोस्ट मे आगे पढ़ते है और झानते है कि क्या डिफरेंस होता है इन दोनों के बीच में.

E-mail क्या है ? What Is Email in हिन्दी


अगर आपको Email के Full form के बारे में नहीं पता तो यहां पे हम आपको बता दें कि Email का Full form होता है इलेक्ट्रॉनिक मेल (Electronic Mail) जब किसी भी खत को एक जगह से दूसरी जगह भेजने या मंगाने की प्रोसेस Electronic माध्यम के द्वारा की जाती हो उसे इलेक्ट्रॉनिक Mail यानी के ईमेल कहा जाता है और यह पूरी प्रक्रिया ऑनलाइन internet के माध्यम से होती है इस गूगल के प्रोडक्ट जी-मेल से पहले सभी याहू मेल का बहुत यूज़ करते थे लेकिन गूगल का गूगल Mail जब से आया है उस टाइम से याहू मेल का यूज काफी कम हो गया है और अब सभी लोग गूगल के द्वारा प्रदान किया गया प्रोडक्ट जीमेल का यूज करते हैं

Update Vs Upgrade में क्या अंतर (Difference) है ? पूरी जानकारी

Update Vs Upgrade में क्या अंतर (Difference) है ? पूरी जानकारी

हलो! फ्रेंड्स स्वागत है आपका hindi help zone ब्लॉग में और आज हम जानेंगे Update क्या है ? और Upgrade क्या है ? और साथ ही साथ जानेंगे Update Vs Upgrade में क्या अंतर है ? अगर आप स्मार्ट फोन का यूज करते हैं तो आपने Update और Upgrade के बारे में सुना ही होगा पर ऐसे बहुत कम लोग हैं जो अपडेट और अपग्रेड के बीच के Diffrance को जानते हैं। लेकिन कई ऐसे भी लोग हैं जो इन दोनों के बीच का Diffrance नहीं जानते इन दोनों को एक समान ही मानते हैं तो आज हम इसी के बारे में बताएंगे की Update और Upgrade में क्या अंतर (Difference) होता है ? क्योंकि इन दोनों के बीच में काफी अंतर होता है

Update और Upgrade में अंतर (Difference) क्या है ? पूरी जानकारी
Update Vs Upgrade मे अंतर

Update और Upgrade की पूरी जानकारी


अगर हम बात करें इन दोनों के बीच के अंतर की तो Update किसी एप्लीकेशन में करना होता है वहीं Upgrade में आपके स्मार्टफोन या कंप्यूटर का पूरा सिस्टम ही बदल जाता है।

आपके स्मार्टफोन में कई बार आपको एप्लीकेशन Update करने के नोटिफिकेशन मिलते होंगे इसका मतलब की आपकी वह एप्लीकेशन अब पुरानी हो चुकी है और नई एप्लीकेशन को Update करनी है और उस नई एप्लीकेशन में आपको पहले से ज्यादा फिशर देखने को मिलेंगे बहुत ज्यादा सुधार देखने को मिलेगा। वहीं Upgrade में आपके स्मार्टफोन या कंप्यूटर का पूरा सिस्टम ही बदल जाता है. अब हम Update क्या होता है ? और Upgrade क्या होता है ? को पूरी डिटेल में समझते हैं जिससे Update और Upgrade में क्या अंतर (Difference) है ? आपको अच्छी तरह से समझ में आ जाएगा तो चलिए जानते हैं Update और Upgrade की पूरी जानकारी

Update क्या होता है ?


आप लोग कई बार देखते होंगे की आपके मोबाइल में कभी-कभी एप्लीकेशन Update करने के मैसेज आते रहते हैं और जब आप अपने मोबाइल में उस एप्लीकेशन या तो सॉफ्टवेयर को अपडेट कर देते हो तो उस एप्लीकेशन में आपको पहले से काफी सुधार देखने को मिलता है Update आपके मोबाइल के सॉफ्टवेयर या तो आपके मोबाइल की एप्लीकेशन में किया जाता है और अपडेट करने का रीजन यह होता है कि आपको उस एप्लीकेशन में पहले से ज्यादा फीचर मिले।

जब भी कोई एप्लीकेशन को आप Update करते हो तो वह सिर्फ उस एप्लीकेशन में नए फीचर को ऐड करने के लिए किया जाता है उसमें कुछ बदलाव किए जाते हैं कुछ नए विकल्पों को एड कर दिए जाते हैं और एप्लीकेशन अपडेट करने से आपके स्मार्टफोन की ऑपरेटिंग सिस्टम में कोई भी बदलाव नहीं होंगे।

एप्लीकेशन के रचयिता द्वारा टाइम टू टाइम Update देने का रीजन यह होता है कि उस एप्लीकेशन का यूज करने वाले लोगों को पहले से बेटर परफॉर्मेंस मिले क्योंकि लोगों को उस एप्लीकेशन या तो ऑपरेटिंग सिस्टम के यूज करने के दौरान कोई परेशानी ना आए। तो फ्रेन्ड अपडेट का मतलब क्या होता है ? के बारे मे हमने जाना अब अपग्रेड के बारेमे समजते है।

Upgrade क्या होता है ?


अगर हम बात करे Upgrade की तो यह ऑपरेटिंग सिस्टम में किया जाता है. जिस तराह से आप अपने मोबाइल मे जैलीबीन, किटकेट, नौगट, मार्शमेल्लो जैसे ऑपरेटिंग सिस्टम का इस्तेमाल करते है तो यहा पे आपको अपग्रेड का विक्लप मील जाता है. For Exampal अगर आप अपने मोबाइल में एंड्राइड का नौगट ऑपरेटिंग सिस्टम का यूज करते हैं और अगर आप अपने मोबाइल में एंड्राइड का न्यु ऑपरेटिंग सिस्टम इस्तेमाल करना चाहते है तो ऐसे समय में आपको जो है अपने मोबाइल के सिस्टम को Upgrade करना रहेंगा.

और जैसे ही आपका सिस्टम Upgrade होगा तो ऐसे मे आपके मोबाइल का सिस्टम जो है बिलकुल ही बदल जाएगा. और अगर आप यही प्रोसेस कंप्यूटर में भी करते है तो वहा पर भी आपको इसी तरह के बदलाव नजर आयेंगे. अगर आप अपने कंप्यूटर में विंडोज 7 का उपयोग करते है और अगर आप अपने कंप्यूटर में विंडोज का न्यु ऑपरेटिंग सिस्टम इस्तेमाल करना चाहते है तो ऐसे समय में आपको जो है अपने कंप्यूटर के सिस्टम को Upgrade करना रहेंगा. तो Upgrade आम तौर पर ऑपरेटिंग सिस्टम में किया जाता है. और Upgrade करने पर आपके कंप्यूटर या तो मोबाइल का सिस्टम बिलकुल ही बदल जाता है.

Update और Upgrade में अंतर क्या है?


अगर हम बात करें Update की तो यह आपको कोई एप्लीकेशन या तो सॉफ्टवेयर में करना रहता है जबकि Upgrade करना रहता है किसी ऑपरेटिंग सिस्टम मे

अगर आपने किसी एप्लीकेशन को इंस्टॉल कर रखा है और आप उसे Update करना चाहते हैं तो आप उसे फ्री में Update कर सकते हैं उसके लिए आपको कोई भी पैसे देने की जरूरत नहीं रहेगी और अगर आप ऑपरेटिंग सिस्टम में अपग्रेड करना चाहते हैं तो ऐसे में आपको पैसे देने रहेंगे

For Example अगर आप अपने कंप्यूटर में हाल ही का विंडोज का लेटेस्ट वर्जन Upgrade करना चाहते हैं तो आपको उस नए ऑपरेटिंग सिस्टम के अपग्रेड करने पर पैसे देने रहेंगे और जहां तक एप्लीकेशन या सॉफ्टवेयर में अपडेट के लिए पैसे देने नहीं पड़ते

Update में स्मार्टफोन के ऑपरेटिंग सिस्टम पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता जबकि सिस्टम को Upgrade करने पर सभी एप्लीकेशन अनइनस्टॉल हो जाते हैं

Upgrade करना बहुत ही मुश्किल काम रहता है इसे सिर्फ एक्सपर्ट ही कर सकते हैं और Update कोई भी कर सकता है

तो अब आप जान गए होंगे कि अपडेट किसी सॉफ्टवेयर या तो एप्लीकेशन का रहता है और Upgrade पूरे ऑपरेटिंग सिस्टम का.

तो दोस्तो आपको यह जानकारी अच्छी लगी हो तो इसे शेयर जरूर करे। ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगो को इसकी जानकारी मिले। और नये post पाने के लिए email से subscribe करिए, और अपने सुझाव देने के लिए comment कीजिये।

THANK U
SD Card क्या है? | SD Card कितने प्रकार के होते है? (SD Card की पूरी जानकारी)

SD Card क्या है? | SD Card कितने प्रकार के होते है? (SD Card की पूरी जानकारी)

हैलो फ्रेन्डस स्वागत है आपका hindi help zone ब्लाॅग मे और आज हम जानेंगे SD Memory Card की पूरी जानकारी. और फ्रेन्डस आप लोंगो ने कभी न कभी एक SD Card जरूर लिया होगा यदि वह अपने फोन के लिए हो या फिर अपने कैमरे के लिए तो सायद आपको पता ही होगा की SD Card क्या है? | SD Card कितने प्रकार के होते है? लेकिन ये कई लोंगो को नहि पता होता है तो वह लेते समय बहुत कन्फ्यूजन होते होंगे कि SD Card कौनसा लेना चाहिये? क्योंकि सेम कार्ड की कीमत 500₹ भी होती है और 2000 ₹ भी होती है तो आज इस लेख में हम जानेंगे कि कीमत मैं इतना Difference क्यों रहेता है और आपको अपने उपकरण के लिए SD Card लेने से पहेले इन बातो को जानना जरूरी है की  SD Card मे Class कया होता है? और SD Card की Speed कैसे पता करे?

SD Card क्या है? |  SD Card कितने प्रकार के होते है? ( SD Card कि पूरी जानकारी )
SD Card

SD Card क्या है? ( sd card कि पूरी जानकारी )


SD Card का यूज उपकरण मे data फाइल को store करने के लिये किया जाता है। हालाकी कूछ फोन मे पहले से ही इन्टरनल स्टोरेज उपलब्ध होता है लेकिन कईबार वो कम पडजाने की वजह से एकस्ट्रा स्टोरेज यानीके SD Card की जरूरत पडती है। और उस SD Card का यूज म्युजीक, तस्वीरें, वीडियोज वगेरे को store करने के लिए किया जाता है. और फ्रेन्डस कया आपको पता है SD Card का full form क्या होता है? (Secure Digital Card) और फ्रेन्डज ये जो SD Cards होते हैं जीसको हम Micro sd card बोलते हैं वह मुख्य तीन Different साइजेस मैं मीलते हैं एक Full Size SD Cards एक स्मॉल micro SD card जो मोबाइल में हम नोर्मली यूज करते है और एक Mini sd card जो कि अब इतना Trends में नहीं है पर आज से तीन-चार साल पहले तक उसका भी हम उपयोग करते थे

SD Card कितने प्रकार के होते है?


दोस्तो यह कार्ड है इनमें दिन केटेगरीज आती है. जो कूछ इस प्रकार से है।

1 - SD ( Secure Digital Card )

2 - SDHC ( Secure Digital High Capacity )

3 - SDXC ( Secure Digital Extended Capacity )

जो नॉर्मल SD Card होते हैं जिसको हम micro SD card बोलते हैं वो 4GB तक बनते है 4GB से ऊपर बनाना उनके लिए मुमकिन नहीं था तो एक नई Technology आई जिसको नाम दिया गया SDHC जिसको हम बोलते हैं (Secure Digital High Capacity) उसकी सहायता से जो कार्ड बनाए गये उनका साइज़ बन सकता था 4GB से लेकर 32GB तक 32GB के बाद जब और कार्ड बनाने की जरूरत महसूस हुई तो एक और नई Technology का इस्तेमाल किया गया जिसका नाम था माइक्रो HDXC (Secure Digital Extended Capacity) और उसकी मदद से जो कार्ड बना सकते हैं आज की डेट में वह है 32GB से लेकर 2tb तक हालांकि अभी तक 2tb का कार्ड बन नहीं पाया है लेकीन उस टेक्नोलॉजी की मदद से 2tb तक का कार्ड बनाया जा सकता हैं।

SD Card में Class क्या है? | SD Card की Speed कैसे पता करे?


देखीये यह तो हो गई नॉरमल तीन केटेगरी की बात अब देखिए स्पीड के हिसाब से भी इसके अंदर बहुत सारी केटेगरीज होती है। जो निचे बताइ गइ है।

SD Card Class 2

SD Card Class 4

SD Card Class 6

SD Card Class 10

SD Card Uhs1

SD Card Uhs3

अब देखिए इनका मतलब क्या होता है जो नंबर कार्ड पर लिखा होता है यानी की क्लास लिखा होता है जो आपको कार्ड मे सी(C) आकार के अंदर लिखाहुआ दिखाइ देगा और यह जो नंबर है इसका मतलब की आपका कार्ड जो एक मैक्सिमम स्पीड सपोर्ट करेगा अगर आप कार्ड में कुछ फाइल्स को डाल रहे हो तो।

अब देखीये अगर Class 2 का कार्ड है तो वह 2mb/ps की स्पीड सपोर्ट करेगा जब आप कार्ड में कुछ इंफॉर्मेशन डाल रहे हैं तो उसी तराह अगर Class 4 है तो वह 4mb/ps, Class 6 हे तो 6mb/ps, Class 10 हे तो 10mb/ps की स्पीड सपोर्ट करेगा।

और जो ये Uhs होते है जिसको हम (Ultra high speed) भी बोलते हैं इनमे जो Uhs-1 और Uhs-3 होते हैं इनकी जो स्पीड है वह 320mb/ps तक की जा सकती है।

SD Card कौन सा लेना चाहिये?


अब देखिए आपको कौन सा कार्ड लेना है और कौन सा कार्ड नहीं लेना है। सबसे पहले मैं आपको बता दूं कि अगर आप आपके फोन में एक कार्ड को यूज करते हैं केवल आपका मीडिया स्टोर करने के लिए यानी कि आप केवल उसमें आपका मूवीज या सोंग्स स्टोर करते हो तो आप Class 4 या इससे ऊपर का कोई भी कार्ड ले सकते हैं आपको कोई भी प्रॉब्लम नही आएगी जब आप उसे प्लेय करेंगे तो।

अगर आप आपके फोन में एचडी रिकॉर्डिंग करना चाहते हैं और वह एचडी रिकॉर्डिंग आप अपने कार्ड में सेव करना चाहते हैं तो मेरी राई यह रहेंगी कि आप कम से कम एक Class 6 का कार्ड ले आगर आप Class 4 का कार्ड लेंगे तो क्या होगा कि जो वीडियो बन रही होगी कैमरा से उनका साइज इतना ज्यादा होता है की वह कार्ड उस स्पीड को लगातार सपोर्ट नहीं कर पाएगा इसीलिए आपको वीडियो में हो सकता है की बीच बीच में कुछ फ्रेम्स मिस हो जाए तो आप की वीडियो थोड़ी सी आपको अटक अटक के रिकॉर्डिंग हुई जैसी मिलेगी। तो एसे मे आपको एक Class 6 का Card लेना अच्चा रहेंगा।

अगर आप आपके फोन में एक 4K रिकॉर्डिंग करना चाहते हैं और साथ ही साथ बीच में आप फोंटोज भी लेना चाहते हैं तो मेरी राय यह रहेगी कि आप कम से कम एक Uhs-1 Card लीजिए अगर Class 10 या class 6 कार्ड में आप 4K करेंगे तो यह नहीं हो पाएगा तो 4K रिकॉर्डिंग के लिए Uhs-1 Card लेना अच्छा रहता है।

अब अगर आप आपके फोन में कार्ड यूज नहीं करते हैं आप आपके कैमरा में कार्ड यूज करते है तो आपको देखना है कि आपका जो कैमरा है इसमें आप कार्ड कैसे यूज करते हैं अगर आप अपने कैमरा से नॉर्मल वीडियो रिकॉर्डिंग करते हैं और अगर आप नॉर्मल फोटोज लेते हैं तो आपके लिए एक Class 6 से ऊपर का कोई भी कार्ड ठीक रहेगा यानिके class 10, class Uhs ठीक रहेगा। और अगर आप इसमें 4K वीडियो रिकॉर्डिंग करते हैं तो आपको कम से कम एक Uhs-1 अगर Uhs- 3 हो तो बहुत ही अच्छा है आपको कम से कम वह कार्ड लेना पड़ेगा क्योंकि अगर आपके कार्ड की स्पीड कम होगी तो आपकी की जो फोटो है वह ढंग से उस में सेव नहीं होगी और आपका जो कैमरा है वह ज्यादा फ्रेम कैप्चर नहीं कर पाएगा।

अगर हम फोन की बात करे तो जो फोन होता है उनमें कुछ फोन में ऑप्शन होता है की हम हमारे जो एप्स के डाटा है वह SD Card में मूव कर सकते हैं ऐसे केस में कम से कम एक Class 10 का card लेना बहुत सही रहेगा क्योंकि अगर आप एप्स का डाटा memory card मे मूव करते है और अगर आपके कार्ड की स्पीड कम है तो जब आप वह एप चलाएंगे तो वह एप लोड होने में बहुत टाइम लेगी हो सकता है वह हैंग करें अगर कोई गेम हो तो और फिर आप बाद में दोष देंगे की मेरे फोन में यह गेम नहीं चलता मेरे फोन में यह एप हैंग करती है इसका मतलब यह है कि आपने जो आपका मेमोरी कार्ड यूज किया है वह कम स्पीड वाला यूज़ किया है।

अब देखिए कि आप अपने कार्ड को कैसे यूज़ करना चाहते हैं आप उसमें अपनी सिंपल एक वीडियो या गाने स्टोर करना चाहते हैं या आप उस में अपने एप का डाटा मूव करना चाहते हैं, या आप उससे 4K रिकॉर्डिंग करना चाहते हैं उसके हिसाब से आप अपना जो है Memory Card ले सकते हैं।

तो friend i hop की मेरे द्वारा दि गई SD Card की पूरी जानकारी आपको अच्ची लगी हो। तो दोस्तो आपको यह जानकारी अच्छी लगी हो तो इसे शेयर जरूर करे। ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगो को इसकी जानकारी मिले। और नये post पाने के लिए email से subscribe करिए, और अपने सुझाव देने के लिए comment कीजिये।