Friday, April 12, 2019

Web Hosting Kya Hai In Hindi | Web Hosting कितने प्रकार की होती है? [पूरी जानकारी]

SHARE
हेलो फ्रेंड्स आज का विषय है Web Hosting और Hindi Help Zone में आज हम जानेंगे Web Hosting Kya Hai In Hindi | Web Hosting कितने प्रकार की होती है Web Hosting कैसे काम करती है What Is Web Hosting In Hindi तो फ्रेंड जब आप ब्लॉग बनाते हो तो आपके पास दो चीजों का होना जरूरी है

पहला है डोमेन नेम और दूसरा है वेब होस्टिंग इन दोनों के बारे में आपको जानकारी होना जरूरी है इन दोनों के बगैर ब्लॉग नहीं बना सकते हैं आप Web Hosting क्या है इसके बारे में मैं आपको इस आर्टिकल के माध्यम से समझा दूंगा लेकिन अगर आप Domain Name से रिलेटेड ज्यादा जानकारी लेना चाहते हैं तो मेरा यह वाला पोस्ट Domain Name क्या है इसे जरूर पढ़ें 

जहां आपको ड़ोमेन के बारे में पूरी जानकारी मिल जाएगी अगर हम होस्टिंग की बात करें तो आप ब्लॉगर पर ब्लॉग बनाते हो तो यह बिल्कुल फ्री है यहां पर आपको असीमित स्पेस और होस्टिंग फ्री में दी जाती है लेकिन अगर आप वर्डप्रेस में अपना ब्लॉग बनाते हो तो यह paid है यहां पर web hosting free नहीं मिलती है आपको पैसे देकर होस्टिंग लेनी पड़ती है 

What Is Web Hosting In Hindi | Web Hosting कैसे काम करती है?
Web Hosting क्या है

होस्टिंग को खरीदना बहुत ही आसान है इसे बहुत ही आसानी से कोई भी खरीद सकते हैं। 6-7 हजाल के अंदर आप इसे खरीद सकते हैं Hosting के कई सारे प्रकार होते हैं जो आपको होस्टिंग खरीदने से पहले कुछ बातों को अच्छी तरह से जान लेना आवश्यक है। तो चलिए जानते हैं What Is Web Hosting In Hindi, Web Hosting क्या है कितने प्रकार की होती है यह पूरी जानकारी आपको Hindi Help Zone के इस लेख के माध्यम से मिलेगी

Web Hosting क्या है ?

इंटरनेट में हमारे ब्लॉग या वेबसाइट को किसी एक जगह पर संग्रह करना जिसे हम इंटरनेट की भाषा में वेब होस्टिंग कहते हैं उदाहरण के तौर पर मान लीजिए अगर आपको अपने मोबाइल में कोई मूवी देखनी है तो उस मूवी की फाइल को पहले आपको अपने मोबाइल में डाउनलोड यानी कि स्टोर करना पड़ेगा तब जाकर आप उस मूवी को देख पाएंगे ठीक उसी तरह वेबसाइट में भी कुछ फाइलें होती है जिसे इंटरनेट में स्टोर करना पड़ता है जैसे Text Article, link photoappPhoto, वीडियो वगैरह।

For Exampal: अगर आप कहीं पर कुछ दिनों के लिए घूमने गए हो तो ऐसे में अगर आपके पास अपना खुद का घर है तो ठीक है वरना आपको किसी किराए के घर में पैसे देकर रहना पड़ेगा बस बिल्कुल वैसे ही अगर आप अपने ब्लॉग या वेबसाइट को खुद होस्ट कर सकते हैं तो ठीक है वरना आपको किसी web hosting कंपनी को पैसे देकर उसके server में रखना पड़ेगा और यह वेब होस्टिंग कंपनीयो के server 24*7 इंटरनेट से कनेक्ट रहते हैं जिससे हमारे हमारा ब्लॉग भी 24 घंटे एक्टिव रहता है जिससे हम उस ब्लॉग को ओपन करके उसका कंटेंट देख पाते हैं

अगर चाहो तो आप अपने ब्लॉग या वेबसाइट को अपने पीसी या कंप्यूटर में भी स्टोर कर सकते हो जी हां बिल्कुल कर सकते हो फ्रेंड्स लेकिन यह थोड़ा मुश्किल है क्योंकि जब तक आपका कंप्यूटर ऑनलाइन है तब तक ही आपका ब्लॉग ऑनलाइन रहेगा अगर समझो कभी लाइट चली गई या तो फिर आपका कंप्यूटर कोई खराबी के कारण बंद हो गया तो समझो आपकी वेबसाइट भी बंद फिर आपकी वेबसाइट को कोई नहीं देख पाएगा जब तक आपका pc फिर से ऑनलाइन नहीं होता

Web Hosting कितने प्रकार की होती है ?

वैसे होस्टिंग बहुत से प्रकार की होती है लेकिन आप अपनी वेबसाइट में आ रहे ट्रैफिक के हिसाब से अपनी वेब होस्टिंग पसंद कर सकते हैं और आज हम बात करेंगे जो आज के समय में ज्यादा यूज होती है उन Web Hosting के बारे में जो कुछ इस प्रकार है

ऑपरेटिंग सिस्टम के आधार पर वेब होस्टिंग दो प्रकार की होती है।

Linux web hosting

Windows web hosting

होस्टिंग को खरीदते समय हमारे पास दो विकल्प रहते हैं कि आप किस तरह की Hosting लेना चाहेंगे Linux या Windows...

अगर Linux की हम बात करें तो लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम एक ओपन सोर्स सॉफ्टवेयर है तो यह आपको सस्ते में मिलेगा और साथ में आपको विंडोज से ज्यादा फीचर भी मिलेंगे अगर हम Windows की बात करें तो यह Linux से महंगा होता है क्योंकि होस्टिंग कंपनी को विंडोज के लिए लाइसेंस खरीदना पड़ता है इसीलिए यह थोड़ा महंगा रहता है वैसे ज्यादातर लोग Linux का ही यूज करते हैं पर वह आप पर निर्भर रहता है कि आप कौन सा लेना पसंद करेंगे

वेबसाइट सपोर्ट के आधार पर वेब होस्टिंग 4 प्रकार की होती है।

1 - Shared Web Hosting

2 - VPS (Virtual Private Server)

3 - Dedicated Web Hosting

4 - Cloud hosting

1 - Shared Web Hosting

ऊपर जो लिस्ट बताई है उनमें से सबसे सस्ती होती है शेयर्ड वेब होस्टिंग यह होस्टिंग का मीनिंग होता है होस्टिंग को शेयर करना Shared Web Hosting में एक ही सर्वर होता है और उस एक ही वेब सर्वर पर एक साथ बहुत सारी वेबसाइट की फाइलों को स्टोर करके रखा जाता है इसकी वजह से इस वेब होस्टिंग का नाम Shared Web Hosting दिया गया है एक ही सर्वर में एक साथ कई सारी वेबसाइट होने की वजह से यह होस्टिंग सस्ती होती है

For Exampal: समझो आप अपने दोस्तों के साथ अपने घर से दूर कहीं पर कुछ दिनों के लिए घूमने गए हो तो जाहिर है वहां आपका अपना घर तो नहीं होगा तो आप क्या करोगे किसी किराए के घर में रहोगे अब समझो अगर आप अकेले उस किराए के घर में रहने जाओगे तो आप को अकेले ही उसका पूरा पैसा देना पड़ेगा पर अगर आप सभी दोस्त मिलकर उस किराए के घर में रहोगे यानी आप अपने दोस्तों के साथ शेर कर लेते हो तो जाहिर है सबको थोड़ा थोड़ा पैसा देना पड़ेगा आप अकेले तो नहीं दोगे तो आपके हिस्से में कितना आएगा कम हो जाएगा ना बस इसी तरह ही Shared Web Hosting का भी है 

अगर हम बात करें नए ब्लॉगर की तो नए ब्लॉगर के लिए यह Shared Web Hosting सबसे बढ़िया होस्टिंग रहती है क्योंकि नए ब्लाॅग में ट्रैफिक कम होता है और कम ट्रैफिक को यह अच्छे से हैंडल कर सकती हैं लेकिन अगर आपका ब्लॉग पॉपुलर हो गया तो जाहिर है आपके ब्लॉग में ट्रैफिक भी बढ़ेगा और ट्रैफिक के बढ़ने से सरवर का लोड बढ़ जाएगा और लोड बढ़ जाने से आपके ब्लॉग की लोडिंग स्पीड भी धीमी हो जाती है जिससे आपके यूज़र भी कम होते जाते हैं और आपका ब्लॉग जो पॉपुलर हुआ है वह फिर से डाउन हो जाता है उस हाई ट्रेफिक को हैंडल नहीं कर सकती यह होस्टिंग

2 - VPS (Virtual Private Server Hosting)

Virtual Private Server Hosting जिनका का शार्ट नेम है (VPS Hosting) यह होस्टिंग शेयर्ड होस्टिंग से थोड़ी बहुत महंगी रहती है लेकिन यह शेयर्ड होस्टिंग से ज्यादा सिक्योर होती है नए ब्लॉगर के लिए इससे सेट सेट अप करना थोड़ा मुश्किल हो सकता है क्योंकि इसे यूज करने के लिए आपके पास थोड़ी जानकारी होना भी जरूरी है 

इस होस्टिंग में एक सर्वर को विभिन्न भागों में बांट दिया जाता है और जिस भाग में आपकी वेबसाइट को रखा है वह भाग आपका होता है उस भाग में किसी दूसरे की वेबसाइट को नहीं रखा जाता क्योंकि यह आपका प्राइवेट सर्वर होता है इसे आपको दूसरों के साथ शेयर करना नहीं रहता है और प्राइवेट सर्वर होने की वजह से यहां पर आपको वेबसाइट की स्पीड भी अच्छी मिलेगी और वेबसाइट के डाउन होने की संभावना कम रहती है क्योंकि यह ज्यादा ट्रैफिक को भी अच्छे से हैंडल कर सकती है

For Exampal: आप जानते ही हैं एक बिल्डिंग में कई सारे कमरे होते हैं और उस बिल्डिंग में से किसी एक कमरे को आपने किराए पर लिया है तो उस कमरे में सिर्फ आपका हक है और कोई इसमें नहीं आ सकता 

3 - Dedicated Web Hosting

इस होस्टिंग में आपको पूरा यह एक Web Server ही प्रदान कर दिया जाता है जिसमे सिर्फ एक ही वेबसाइट को रखा जाता है यह Dedicated Web Hosting उन वेबसाइट के लिए अच्छी होती है जिन पर बहुत ही ज्यादा ट्रैफिक आती हो क्योंकि यह आपको पूरा एक वेब सर्वर ही प्रदान कर देते हैं इसीलिए यह बहुत ज्यादा ही महंगी होती है

For Exampal: समझो कोई एक घर में बहुत सारे कमरे हैं और आपने उस पूरे घर को ही खरीद लिया है तो उसके सभी कमरे पर सिर्फ आपका अधिकार रहता है

4 - Cloud Web Hosting

Cloud Web Hosting में बहुत सारे वेब सर्वर एक साथ होते हैं और यह होस्टिंग सबसे ज्यादा विश्वसनीय मानी जाती है जो कि अलग-अलग देशों में स्थापित होती है और इन सब को इंटरनेट से कनेक्ट कर दिया जाता है अगर आप क्लाउड होस्टिंग पर जाते हैं तो यहां पर आपकी वेबसाइट को रखने के लिए एक नया सर्वर ही बना दिया जाता है जिससे क्लाउड सर्वर बोलते हैं और यहां पर आपकी वेबसाइट में चाहे कितना भी ट्रैफिक क्यों ना हो आपकी वेबसाइट के डाउन होने के चांसेस ना के बराबर होंगे

Web hosting कैसे काम करती है ?

वेब होस्टिंग कंपनीया आपकी वेबसाइट की फाइलों को उसके सर्वर पर स्टोर करके रखती है और जब भी कोई आपकी वेबसाइट को ओपन करने के लिए अपने ब्राउज़र में आपकी वेबसाइट का एड्रेस या यूआरएल टाइप करता है तब यह वेब होस्टिंग के सर्वर उस व्यक्ति की रिक्वेस्ट को एक्सेप्ट कर लेता है और उसके कंप्यूटर या मोबाइल पर आपकी वेबसाइट की फाइलों को पहुंचा देता है जिसके जरिए उस व्यक्ति के कंप्यूटर या तो मोबाइल पर आपकी वेबसाइट ओपन हो जाती है 

Web hosting को खरीदते समय अपनी वेबसाइट के परफार्मेंस के हिसाब से नीचे दिए विकल्पों का सोच समझ कर चुनाव करें

1 - Disk space

2 - Uptime

3 - customer service

1 - Disk space

डिस्क स्पेस का मतलब मैं आपको एक एग्जांपल के तौर पर समझाऊं तो जैसे आपके कंप्यूटर में एक डिस्क स्पेस होता है 700GB या 2TB जिसमें आप अपनी सभी फाइलों को स्टोर करके रखते हैं बस उसी तरह ही वेब होस्टिंग में भी डिस्क स्पेस होता है जिसमें आपकी वेबसाइट की सभी फाइलों को स्टोर करके रखा जाता है तो जब भी आप होस्टिंग खरीदे तो उसमें Disk space अनलिमिटेड ही खरीदें ताकि आपका स्टोरेज कभी भूल ना हो अगर आप लिमिटेड वाला डिस्क स्पेस लेते हो और समझो कभी वो स्टोरेज भर गया तो आपकी साइट डाउन हो सकती हैं। तो डिस्क स्पेस अनलिमिटेड वाला ही पसंद करें 

2 - Uptime

Uptime का मतलब यह होता है कि कितने समय तक आपकी वेबसाइट ऑनलाइन रहती है और उसे uptime कहते हैं मतलब कि जितने समय तक होस्टिंग सर्वर रनिंग करेगा तब तक ही आपकी वेबसाइट ऑनलाइन रहेगी जब सर्वर रन करना बंद कर देता है तो आपकी वेबसाइट भी ऑफलाइन यानी कि डाउन हो जाएगी हालांकि सभी होस्टिंग प्रोवाइडर आपको 100% Uptime की गारंटी नहीं देती है हां लेकिन कुछ 99.99% गारंटी जरूर देगी जो कि काफी अच्छी होती है

3 - custmore service

hosting कंपनियों का कहना है कि वह अपनी कंपनी की कस्टमर सर्विस सबसे अच्छी देगी पर ऐसा नहीं होता इसीलिए आप जहां से भी होस्टिंग खरीदे तो पहले उस कंपनी की customer service ठीक से चेक कर ले क्योंकि कुछ ऐसी कंपनीया भी है जो कस्टमर सर्विस में कॉल करने का पैसा भी काट लेती है। तो आप फ्री वाली ही सर्विस छूने जिससे आपको कोई तकलीफ ना हो।

तो friend i hop कि आपको समझ में आ गया होगा कि Web Hosting क्या है कितने प्रकार की होती हैं और यह कैसे काम करती हैं तो दोस्तों आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो इसे शेयर जरूर करें ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगों को इसकी जानकारी मिली और हमारे नए पोस्ट पाने के लिए हमे email से subscribe करिए और अपने सुझाव देने के लिए comment कीजिए

THANK U

यह भी पढ़े ⤵
SHARE

Author: verified_user

0 comments: